पंचकूला
सुरावज्जुला फिडेल रफीक स्नेहित यह वह नाम है जिन्होंने राष्ट्रीय टेबल टेनिस चैंपियनशिप में गत विजेता हरमीत देसाई को बाहर कर अब तक का सबसे बड़ा उलटफेर किया। दो साल पहले यूथ राष्ट्रीय चैंपियन बनने वाले स्नेहित ने सोमवार को पहली बार राष्ट्रीय चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बनाई। स्नेहित ने इससे पहले अपने आदर्श शरत कमल को नार्थ जोन चैंपियनशिप में हराया था।

स्नेहित ने प्री क्वार्टर में हरमीत को 11-9, 11-7,11-9, 11-5 और क्वार्टर फाइनल में सुष्मित श्रीराम को 8-11, 12-10, 11-9, 11-8, 11-3 से हराकर अंतिम चार में सेमीफाइनल में जगह बनाई। यहां वह जी साथियान से खेलेंगे जिन्होंने सानिल शेट्टी को 11-9, 11-9, 11-13, 11-8, 11-6 से मात दी। इससे पहले साथियान ने अंतिम 16 में सार्थक गांधी को 4-2 से हराया।

पत्रकारों के परिवार से संबंधित स्नेहित के नाम में सभी धर्मों को जगह दी गई है। उनके पिता एस रामू के मुताबिक वह क्यूबा के दिवंगत राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो का सम्मान करते हैं। इस वजह से उनका नाम बेटे के नाम में शामिल किया। वह इंटर यूनिवर्सिटी तक बैडमिंटन खेले हैं। उनका कॅरिअर जब बनने वाला था तब उन्हें घातक चोट लग गई। चोट से उबारने के लिए रफीक नाम के दोस्त ने उन्हें अपना लिगामेंट दिया। यह त्याग वह नहीं भूल पाए और रफीक का नाम बेटे के नाम में जोड़ दिया। स्नेहित के माता-पिता पत्रकार हैं तो बहन भी पत्रकारिता कर रही हैं। दादी भी पत्रकार रही हैं। स्नेहित मॉस कम्यूनिकेशन के फाइनल वर्ष के छात्र हैं।

अपने दसवें राष्ट्रीय खिताब के लिए प्रयासरत शरत कमल ने एंथोनी अमलराज को 11-8, 11-3, 5-11, 13-11, 11-2 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। जहां उनका सामना मानव ठक्कर से होगा। मानव ने बंगाल के रोनित भांजा को 11-7, 12-10, 10-12, 12-10, 11-6 से पराजित किया। शरत ने प्री क्वार्टर में सौगथ सरकार को 4-2 से हराया था।

Source : Agency