लंदन  
ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविड-19 वैक्सीन का 6 से 17 साल के बच्चों और किशोरों पर परीक्षण रोक दिया गया है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने खुद इसकी जानकारी दी है। दरअसल, एस्ट्राजेनेकी वैक्सीन लगवाने वाले कुछ लोगों में खून के थक्के बनने की शिकायत मिलने के बाद ऐसा किया गया है।  द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने यह रिपोर्ट दी है। खबरों के मुताबिक, अब खून के थक्के बनने को लेकर अधिक जानकारी मिलने के बाद ही ट्रायल शुरू किया जाएगा। 

हालांकि, ऑक्सफोर्ड के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा कि परीक्षण में सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं के कारण नहीं रोका गया है बल्कि वह इसके इस्तेमाल को लेकर ब्रिटेन की दवा नियामक के दिशानिर्देशन का इंतजार कर रही है। बता दें कि ब्रिटेन और यूरोप में वयस्कों में खून के थक्के जमने की परेशानियों को लेकर व्यापक चिंताएं हैं। इससे पहले यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी (ईएमए) ने कहा कि वह यूरोपीय देशों में एस्ट्राजेनेका के टीके की पहली खुराक लेने वाले मरीजों के सामने आई दिक्कतों की जांच कर रहा है।

ऑस्ट्रिया, एस्टोनिया, लिथुआनिया, लातविया, लक्समबर्ग, डेनमार्क, बुल्गारिया, नॉवेर्, आइसलैंड, स्लोवेनिया, साइप्रस, इटली, फ्रांस, जर्मनी और स्पेन सहित कई यूरोपीय देशों ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के उपयोग को निलंबित कर दिया। ईएमए ने बाद में दवा का उपयोग जारी रखने की सिफारिश की। जिसके बाद कई देशों ने इस वैक्सीन को लेकर फिर से टीकाकरण शुरू कर दिया है।

Source : Agency