कहीं डोनाल्ड ट्रंप ना कर दें चीन से जंग का ऐलान, अमेरिकी सेनाध्यक्ष ने चीन को कर दिया सीक्रेट फोन 

वॉशिंगटन
अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट ने एक ऐसा खुलासा किया है, जिसनें अंतर्राष्ट्रीय राजनीति में तहलका मचा दिया है। अखबार ने दावा किया है कि अमेरिकी सेना के सेनाध्यक्ष को डर था कि डोनाल्ड ट्रंप चीन के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर सकते हैं, क्योंकि वो राष्ट्रपति चुनाव में संभावित हार की तरफ बढ़ रहे हैं। इसलिए उन्होंने दो बार चीन की सेना पीएलए के सेनाध्यक्ष को सीक्रेट फोन किया था। 
जनरल को था युद्ध का डर अमेरिका के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने 30 अक्टूबर 2020 को, अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से चार दिन पहले पहली बार चीन की सेना पीएलए के जनरल को फोन किया था। दूसरी बार मार्क मिले ने 8 जनवरी को चीन के जनरल को फोन किया था, जब डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक अमेरिकी संससद भवन कैपिटल हिल्स पर हमला कर चुके थे। वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक मार्क मिले को डर था कि डोनाल्ड ट्रंप हार को देखते हुए कहीं चीन के खिलाफ युद्ध का ऐलान ना कर दें, लिहाजा उन्होंने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के जनरल ली ज़ुओचेंग को फोन किया था।

 रिपोर्ट में कहा गया है कि टेलीफोन पर बाचतचीत के दौरान अमेरिकी सेनाध्यक्ष ने चीन को आश्वस्त करते हुए कहा था कि अमेरिका चीन पर हमला नहीं करेगा और अगर अमेरिका की तरफ से हमला किया जाता है, तो वक्त रहते हुए चीन को सतर्क कर दिया जाएगा। अमेरिकी अखबार ने ये रिपोर्ट पत्रकार बॉब वुडवर्ड और रॉबर्ट कोस्टा की एक नई किताब "पेरिल" पर आधारित होकर छापी है। जिसके बारे में उन्होंने कहा है कि 200 स्रोतों के साथ इंटरव्यू के आधार पर इस रिपोर्ट को बनाया गया है।