कुछ लोग चाहते हैं कि मैं जिंदा न रहूं : पोप फ्रांसिस

रोम
पोप फ्रांसिस ने अपने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा है कि उनकी भद्दी टिप्पणियां शैतान का काम हैं। हाल में हुई आंतों की सर्जरी के बाद कुछ लोग चाहते थे कि मैं जिंदा न रहूं। पादरी ने यह बात हाल ही में अस्पताल से स्लोवाकिया पहुंचने के बाद उस वक्त कही जब उनसे पूछा गया कि वे कैसा महसूस कर रहे हैं। पोप ने मजाकिया लहजे में कहा- अब भी जिंदा हूं, जबकि कुछ लोग चाहते थे कि मैं मर जाऊं।

पोप ने कहा, मुझे पता है कि पादरी लोग बैठकें करने लगे थे और कह रहे थे कि पोप की हालत जो बताई जा रही है असल में वह उससे भी ज्यादा खराब है। वे आगे की तैयारी कर रहे थे। सब्र रखिए, ईश्वर का शुक्र है कि मैं ठीक हूं। पोप फ्रांसिस की जुलाई में सर्जरी हुई थी।

बड़ी आंत का 33 सेंटीमीटर हिस्सा निकाला गया था। इसके बाद पोप ने 12 से 15 सितंबर को हंगरी-स्लोवाकिया की यात्रा की थी। सर्जरी के बाद यह उनकी पहली अंतरराष्ट्रीय यात्रा थी। दरअसल, पोप के दस दिन अस्पताल में रहने पर इटली में कयास लग रहे थे कि शायद अब पोप इस्तीफा दे देंगे और खबरों में पोप के वारिस के बारे में बारे की जा रही थीं।