सुरक्षा कर्मियों ने सुधा चंद्रन को एयरपोर्ट पर रोका

नई दिल्ली

भारतीय टेलीविजन और फिल्म जगत की मशहूर अभिनेत्री सुधा चंद्रन का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सीनियर सिटीजन के लिए एक कार्ड जारी करने की अपील करती हुईं नजर आ रही है ताकि हवाई यात्रा करते समय एयरपोर्ट पर चेक इन और चेक आउट करते समय दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े। दरअसल, सुधा चंद्रन जब भी कभी हवाई यात्रा करती हैं तो एयरपोर्ट पर उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। ऐसा इसलिए क्योंकि चेक इन दौरान सुरक्षाकर्मी उन्हें रोक लेते हैं और उनके आर्टिफिशियल लिंब को उतारने और उसे चेक करने के लिए कहते हैं। चंद्रन का एक सड़क हादसे में पैर कट गया था जिसके बाद वो आर्टिफिशियल लिंब के सहारे चलती हैं।

 

इंस्टाग्राम पोस्ट में चंद्रन ने कहा है कि सुरक्षा जांच के दौरान उनसे आर्टिफिशियल लिंब को हटाने के लिए कहा गया था। सड़क दुर्घटना में अपना पैर गंवाने के बाद भी चंद्रन का विश्वास नहीं डगमगाया और उन्होंने एक डांसर के साथ-साथ अभिनेत्री के रूप में खूब वाहवाही बटोरी। उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल लिंब को खोलने की प्रक्रिया काफी कष्टदायी होता है और हवाई अड्डे के अधिकारियों से हर बार ईटीडी (विस्फोटक ट्रेस डिटेक्टर) का उपयोग करने का अनुरोध किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।इंस्टाग्राम पर एक वीडियो जारी करते हुए चंद्रन ने कहा 'गुड इवनिंग, मैं जो कहने जा रही हूं, यह बेहद ही व्यक्तिगत नोट है। मैं अपनी यह बात अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से कहना चाहती हूं। मेरी यह अपील राज्य और केंद्र सरकार दोनों से है। मैं सुधा चंद्रन हूं, प्रोफेशनल डांसर और एक्ट्रेस हूं। मैंने आर्टिफिशियल लिंब के सहारे डांस किया और इतिहास रचा और मेरे देश को मुझ पर बहुत गर्व है।' वीडियो में उन्होंने आगे कहा 'लेकिन हर बार जब मैं हवाई यात्राओं पर जाती हूं तो हर बार एयरपोर्ट पर मुझे रोक दिया जाता है और जब मैं सुरक्षा में उनसे सीआईएसएफ अधिकारियों से अनुरोध करता हूं कि कृपया मेरे कृत्रिम अंग के लिए एक ईटीडी (विस्फोटक ट्रेस डिटेक्टर) करें, तब भी वह यही चाहते हैं कि मैं अपने कृत्रिम अंग को हटा दूं और उन्हें दिखाऊं। क्या यह मानवीय रूप से संभव है मोदी जी? क्या यही हमारा देश है? क्या यही वह सम्मान है जो एक महिला हमारे समाज में दूसरी महिला को देती है? मोदी जी से मेरा विनम्र अनुरोध है कि कृपया वरिष्ठ नागरिकों को एक कार्ड दें, जिसमें लिखा हो कि वे वरिष्ठ नागरिक हैं।' चंद्रन ने कहा कि उन्हें हर बार हवाई अड्डे की सुरक्षा से गुजरना पसंद नहीं है और उन्होंने केंद्र सरकार से त्वरित कार्रवाई करने का अनुरोध किया।