प्रदेशबिहार

रुपौली विधानसभा उपचुनाव में सीएम नीतीश कुमार ने आरजेडी उम्मीदवार बीमा भारती को निशाने पर रखा

पटना

बिहार के पूर्णिया जिले की रुपौली सीट के लिए उपचुनाव हो रहे हैं. रुपौली सीट के लिए 10 जुलाई को मतदान होना है. चुनाव प्रचार थम चुका है. रुपौली में प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के बीच जमकर जुबानी तीर चले. नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) उम्मीदवार बीमा भारती को निशाने पर लेते हुए कहा कि उनको हमने सिखाया लेकिन वो हमें छोड़कर भाग गईं. बीमा भारती ने नीतीश पर पलटवार करते हुए कहा कि मुझे जनता ने बनाया. तेजस्वी यादव ने नीतीश की पार्टी जनता दल (यूनाइटेड) पर महिला को अपमानित करने का आरोप लगाया.

चुनाव प्रचार के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरजेडी उम्मीदवार बीमा भारती को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि बीमा भारती को इतनी इज्जत दिए, तीन बार विधायक बनाए, राज्य सरकार में मंत्री बनाए, फिर भी भाग गईं. नीतीश ने लोकसभा चुनाव का जिक्र करते हुए तंज किया और कहा कि सांसद तो बनी नहीं, आम चुनाव में तीसरे नंबर पर रहीं. उन्होंने कहा कि बीमा को कुछ बोलना नहीं आता था. इतना इज्जत देते रहे और देखिए, छोड़कर भाग गईं. नीतीश कुमार ने यह भी जोड़ा- हमको जो छोड़कर भागता है, वह गड़बड़ ही न करता है.

नीतीश ने अपमानित किया- बीमा

सीएम नीतीश कुमार के बयान पर पलटवार करते हुए बीमा भारती ने कहा कि सीएम ने रुपौली में आकर, मेरा नाम लेकर मुझे अपमानित करने का काम किया. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने चुनावी जनसभा में मेरा नाम ले-लेकर ताना-मारने का काम किया. बीमा भारती ने कहा कि नीतीश ने एक अति पिछड़ा की बेटी को प्रताड़ित करने का काम किया, अपमानित करने का काम किया. वह कहते हैं कि बीमा को हमने बोलना सिखाया, पढ़ने सिखाया. उन्होंने कहा कि आपने नहीं, रुपौली की जनता ने मुझे चूल्हे-चौके से निकालकर विधायक बनाया है और घर निकल बोलने का मौका दिया है.

नीतीश के बयान पर क्या बोले तेजस्वी

सीएम नीतीश कुमार के बयान पर बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने भी जवाबी हमला बोला. आरजेडी नेता ने कहा कि अति पिछड़े समाज की एक बेटी जब जेडीयू में थी, उसको प्रताड़ित किया जाता था. उन्होंने आगे कहा कि जब अपने हक के लिए उस पार्टी में लड़ती थीं तो उनको वहां अपमानित किया जाता था. तेजस्वी ने कहा कि इससे तंग आकर बीमा भारती ने पार्टी छोड़ दी और आरजेडी में आ गईं. उन्होंने आगे यह भी कहा कि जनता भगवान है, सब देख रही है. जनता ही न्याय करेगी.

जेडीयू विधायक थीं बीमा भारती

बिहार चुनाव 2020 में बीमा भारती जेडीयू के टिकट पर रुपौली सीट से विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुई थीं. नीतीश कुमार के महागठबंधन से नाता तोड़कर फिर से एनडीए में वापसी करने के बाद जेडीयू के जिन विधायकों के आरजेडी के संपर्क में होने की बातें कही जा रही थीं, उनमें बीमा का भी नाम था. बीमा भारती ने विश्वास प्रस्ताव पर मतदान से भी किनारा कर लिया था. लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीमा ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर आरजेडी का दामन थाम लिया था. आरजेडी ने बीमा को पूर्णिया लोकसभा सीट से उम्मीदवार भी बनाया था लेकिन वह चुनाव हार गई थीं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button